Glocal Amitians

An E-magazine by AIS 46

Categories Menu

लक्ष्य – कामयाबी की ओर

लक्ष्य – कामयाबी की ओर

 

आओ देश के गौरव को ज़रा सराहा जाए

उन चंद वीरों की योग्यता के बारे में पढ़ा जाए

 

अपनी कलम की ताकत से बदलना है देश का नज़रिया

रबीन्द्रनाथ ठाकुर , रुडयार्ड किप्लिंग  और नायपॉल का यही तो था एक सपना

 

कलम की ताकत का एहसास इन्होंने कराया था

और हो भी क्यों ना ,

आखिर इन्होंने देश को नोबेल पुरस्कार जो दिलवाया था

 

चंद्रशेखर जैसों ने तो सितारों के ऊपर भी रिसर्च कर लिया

पर फिर भी न जाने क्यों ,

अंग्रेज़ों को हमारे हाथ में सांप की बीन और कटोरा ही दिखा

 

फिजिक्स , केमिस्ट्री और बायोलॉजी में भी हमें कहाँ पीछे रहना मंज़ूर था

तभी तो ,

सी.वी. रमन ,हर गोबिंद खुराना और रामकृष्णन ने नोबेल पुरस्कार जीत देश के गौरव को और बढ़ाया था

 

एक तरफ तो हम अपने ही देश में बात – बात पर मज़हबी दंगे  करते हैं

वहीं दूसरी तरफ ये कुछ वीर दुनिया भर में शांती और अमन का पंचम  हैं

 

मदर टेरेसा ने तो हस्ते – हस्ते सारा जीवन गरीबों की भलाई में लगा दिया

वहीं  कैलाश सत्यार्थी और दलाई लामा ने बच्चों पर हो रहे अत्याचार और समाज में हो रहे पाप को जड़ से मिटाने मेंअपनी पूरी ज़िन्दगी को न्योछावर कर दिया

 

इन सब के बारे में पढ़कर

कुछ कर गुजरने का तो हमारा भी जी चाहता है

 

कुछ पल केवल अपने लिए ही नहीं

देश के लिए सोचने को ये मन चाहता है।

                                                   -तान्या सिंह